नवीनतम विधा

93 2 0

यह सर्वमान्य तथ्य है कि हिन्दी साहित्य और भारतीय कला जगत रचनात्मकता के लिये सीमा के किसी बंधन को नहीं मानता । भारतवर्ष में प्राचीन काल से ही प्रवासियों द्वारा कला के विभिन्न स्वरूपों को आत्मसात किया गया है। एक शताब्दी पूर्व सन् 1900 ई0 के लगभग जापानी साहित्यकार मासाओका शिकि ( 1867-1902) ने विशिष्ट जापानी छंद “होक्कु” को एक नया नाम हाइकु (Haiku) दिया जिसने लोकप्रियता के बडे मानकों को प्राप्त किया ।

 

भारतीय साहित्य की उर्वरा भूमि के लिये कविवर रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा जो जापानी तोहफा लाया गया उसी का नाम है हाइकु । आज जापान में लाखों लोग इस छन्द में रचना करते हैं । भारत की अनेक भाषाओं ने भी इस छंद को बडी आत्मीयता के साथ अपनाया है। जापानी और हिन्दी के साथ -साथ हाइकु विश्व की सभी प्रमुख भाषाओं में लिखा और पढ़ा जा रहा है ।

लगभग एक शताब्दी पूर्व सन् 1919 में कविवर रवीन्द्रनाथ ठाकुर के द्वारा अपनी जापान यात्रा से लौटने के पश्चात उनके ‘जापान यात्री’ में प्रसिद्ध जापानी हाइकु कवि मात्सुओ बाशो की हाइकु कविताओं के बंगला भाषा में अनुवाद के रूप में यह विधा सर्वप्रथम हिन्दुस्तानी धरती पर अवतरित हुई परन्तु इतने पहले आने के बावजूद लंबे समय तक यह साहित्यिक विधा हिन्दुस्तानी साहित्यिक जगत में अपनी कोई विशेष पहचान नहीं बना सकी। इस प्रकार रवीन्द्रनाथ ठाकुर के द्वारा जापानी हाइकु कविताओं के बंगला भाषा में अनुवाद के माध्यम से भारतीय साहित्य उर्वरा भूमि में हाइकु का बीजारोपण तो हो गया परन्तु इस बीज के अंकुरित होकर विकसित होने के लिये जिस अनुकूल वातावरण की आवश्यकता थी वह श्रदेय अज्ञेय के माध्यम से मिला। हिन्दी साहित्य की अनेकानेक विधाओं में से एक नवीनतम विधा है हाइकू । हिन्दी भाषा में हाइकु की प्रथम चर्चा का श्रेय अज्ञेय को दिया जाता है, उन्होंने छठे दशक (१९६०) में अरी ओ करुणा प्रभामय (१९५९) में अनेक हाइकुनुमा छोटी कविताएँ लिखी हैं जो हाइकु के बहुत निकट हैं। जिन पर अब भी लगातार शोध जारी है। प्रो० डा० सत्यभूषण वर्मा ने हिन्दी साहित्य संसार को सबसे पहले हाइकु से परिचित कराया तथा अन्तर्देशीय पत्र प्रकाशित कर हाइकु को चर्चित किया। वर्तमान में संसार भर में फैले हिंदुस्तानियों की इन्टरनेट पर फैली रचनाओं के माध्यम से यह विधा हिन्दुस्तानी कविता जगत में ही नही वरन् विभिन्न देशों में हिन्दी काव्य -जगत् में प्रमुखता से अपना स्थान बना रही है। 

हिन्दी साहित्य में स्थान बनाती जापानी विधाऐंमुफ्त में यह कहानी पढ़ें!