Previous Page of 2Next Page

बचपन के खर्चे

spinner.gif

म सब के पास अपने जीवन के कुछ अनमोल पलों से जुडी कई यादें होती हैं और इनमें से कई यादें हमारे बचपन से जुडी होती हैं.! मुझे अपने बचपन के दिन बहुत अच्छे लगते हैं और मैं शर्तिया तौर पर कह सकता हूँ की आपको भी अपने बचपन की यादों से प्यार होगा.! क्यूंकि यही वो दिन थे जिनको आपने बिना किसी टेंशन के बिताये होंगे! सही मायने में मैं अपने बचपन के दिनों को जीने की ख्वाहिश रखता हूँ और जब जब मेरे ज़ेहन में ये ख्याल आता है तो बरबस ही मेरा मन जगजीत सिंह की आवाज़ में पिरोये उन शब्दों को गुनगुनाने लगता है !

ये दौलत भी ले लो.. ये शोहरत भी ले लो .!!

भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी !

मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन..

वो कागज़ की कश्ती वो बारिश का पानी..!!

हालाँकि बचपन से जुडी कई यादें हैं.. पर मैं चूँकि खाने का शौक़ीन हूँ तो मैं उन दिनों के कुछ ख़ास तो नहीं पर यादगार चीज़ों का ज़िक्र ज़रूर करूँगा ! उन दिनों बाज़ार से यदि हमें कुछ लाने को भेजा जाता तो हम खुश हो जाते की यदि कुछ पैसे बच जायें तो अपनी जीव्हा की लिलिप्सा शांत कर सकें !

उन दिनों जब मैं ६ या ७ साल का था तब पैसों का चलन था ! ५ पैसे और १० पैसों में अच्छी खासी चीज़ें मिल जाती थीं जिनमें हर बच्चा खुश हो सकता था ! इन में से कुछ का ज़िक्र कर रहा हूँ !

सबसे पहले तो वो सफ़ेद प्लास्टिक में लिपटी छोटी छोटी औरेंज की टॉफी.. १० पैसे में चार .. कोई बुरा सौदा नहीं था.. कसम से आज भी उसका स्वाद नहीं भूल पाया मैं..!

दूसरी चीज़ जो मुझे याद है वो थी एक छोटे से कागज़ के डब्बे में पैक की हुई चूरन की डिबिया ! स्वाद में खट्टा मीठा और हल्का तीखापन लिए हुए इस चूरन में जाने क्या ख़ास बात थी की एक बार जो हम इसे चख लेते फिर तो हर बार इसे ही खाने को मन मचलता !

तीसरी चीज़ जो मुझे बेहद पसंद थी वो थी दोनों तरफ से बंद एक लम्बी सी स्ट्रा में भरे हुए छोटे छोटे सौंफ जैसे टुकड़े.. कीमत बस ५ पैसे ! स्ट्रा का एक सिरा काट लो और फिर लो मज़े..!!

Previous Page of 2Next Page

Comments & Reviews (14)

Login or Facebook Sign in with Twitter


library_icon_grey.png Add share_icon_grey.png Share

Who's Reading

Recommended